ट्रंप ने पलटा ओबामा का फैसला

नई दिल्ली | समाचार डेस्क: डोनाल्ड ट्रंप ने ‘ट्रांस पैसिफिक पार्टनरशिप’ से बाहर निकलने के लिये कार्यकारी आदेश जारी कर दिये हैं. ओबामा केयर के बाद एशिया नीति की धुरी को पलटा गया है. अपने चुनाव प्रचार के दैरान डोनाल्ड ट्रंप ने टीपीपी को एक ‘संभावित आपदा’ करार देते हुए कहा था कि इससे अमरीका में उत्पादन क्षेत्र को नुक़सान हुआ है. राष्ट्रपति चुनाव जीतने के बाद से उन्होंने उन अमरीकी कंपनियों को फटकार लगाई है जिन्होंने अपने कारख़ाने अमरीका से विदेश भेज दिये हैं.

नवनिर्वाचित अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अमरीकी मज़दूरों को बेरोज़गार करने के लिये मेक्सिको और कनाडा के साथ हुये व्यापार समझौतों को दोषी ठहराया है. माना जा रहा है कि डोनाल्ड ट्रंप आने वाले दिनों में ऐसे कई पैसले लेने वाले हैं जिसका उन्होंने चुनाव अभियान के दौरान वादा किया था.


ट्रंप ने टीपीपी से अमेरीका के हटने के आदेश पर दस्तखत करने के बाद कहा, “हम लंबे समय से इस बारे में बात कर रहे थे. यह अमरीकी श्रमिकों के लिए बहुत अच्छा वक्त है.” ट्रंप ने अपने प्रचार अभियान में इस बारे में वादा किया था. उन्होंने दलील दी थी कि यह अमरीकी कर्मियों और निर्माण क्षेत्र के लिए नुकसानदेह सौदा है. शीर्ष रिपब्लिकन सीनेटर जॉन मैकेन ने ट्रंप के फैसले को त्रुटि करार दिया है.

इस व्यापार समझौते को पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा की एशिया नीति की धुरी माना जाता था. राष्ट्रपति पद के लिए अपने चुनाव अभियान के दौरान ट्रंप ने टीपीपी को एक ‘संभावित आपदा’ करार देते हुए कहा था कि इससे अमरीका में उत्पादन क्षेत्र को नुक़सान हुआ है. डोनाल्ड ट्रंप ने ‘बड़े पैमाने पर’ टैक्स घटाने और विनियमनों को कम करने का वादा किया है. लेकिन जिन कंपनियों के कारखाने विदेशों में हैं उन पर ‘बहुत बड़ा सीमा कर’ लगाने का एलान किया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!