जेटली लाये अच्छे दिन के सपने

नई दिल्ली | संवाददाता: वित्त मंत्री अरुण जेटली ने मोदी सरकार के पहले बजट में कई सपने दिखाए हैं. अपने पहले बजट भाषण की शुरुआत में ही अरुण जेटली ने कह दिया कि 45 दिनों के भीतर सरकार से किसी बड़े बदलाव की उम्मीद नहीं की जानी चाहिये. उन्होंने अधिकांश घोषणाएं इस तरह की हैं, जिसमें यह भरोसा दिलाया जा सके कि आने वाले दिन अच्छे दिन होंगे. उन्होंने कहा कि तीन से चार साल में विकास दिखने लगेगा.

उन्होंने पिछली सरकार पर तंज कसते हुये कहा कि हम ऋण छोड़ने वाला घाटे का बजट भी पेश नहीं कर सकते. हालांकि उन्होंने पूर्व वित्त मंत्री की इस बात के लिये भी प्रशंसा की कि उन्होंने राजकोषीय घाटा को कम करने की कोशिश की दिशा में प्रयास किये. अरुण जेटली ने कहा कि दुनिया में मंदी का असर भारत पर भी पड़ा है.

एफडीआई के मुद्दे पर उन्होंने उसके कई लाभ गिनाये और जम कर वकालत की. अरुण जेटली ने रक्षा क्षेत्र और बीमा क्षेत्र में 49 फीसदी एफडीआई की घोषणा की.

अरुण जेटली ने देश के विकास के लिए रियल स्टेट इनवेस्टमेंट को प्रोत्साहन करने, किसान विकास पत्र को फिर से शुरू करने, 1000 करोड़ रुपये की लागत से प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना शुरू करने, जीएसटी को खत्म करने, सरकारी बैंकों के शेयर बेचने, बड़े शहरों के आसपास 100 स्मार्ट सिटी बनाने और स्मार्ट सिटी में भी एफडीआई जैसी घोषणाएं भी की.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *