नोटबंदी से मंदी आयेगी?

नई दिल्ली | समाचार डेस्क: नोटबंदी के दावे और हकीकत अपनी जगह है. सबके अपने-अपने तर्क हैं. सरकार के साथ-साथ एक बहुत बड़ी संख्या में लोगों का मानना है कि इससे काले धन पर लगाम लगेगी तथा भ्रष्ट्राचार कम होगा. दूसरी तरफ ऐसे भी हैं जो इन दावों पर तंज कस रहें हैं. वहीं विदेशी दूतावास भी इस बात का विरोध कर रहें हैं कि उनके लिये नगदी निकासी सप्ताह में पचास हजार रुपये तक सीमित कर दी गई है. जिससे उनके भारी-भरकम राजनयिक-अधिकारी-कर्मचारियों की फौज का गुजारा होना मुश्किल है.

राज्यसभा में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने तंक कसा था कि ऐसा कौन सा देश है जहां अपने जमा धन को बैंकों से निकालने नहीं दिया जाता है. बीबीसी हिन्दी में देश के प्रख्यात अर्थशास्त्री भरत झुनझुनवाला का इस बारें में आकलन पेश किया गया है. जिसमें आशंका व्यक्त की गई है कि नोटबंदी से मंदी आ सकती है. उनके विचार हूबहू पेश हैं-


मैं नोटबंदी के फ़ैसले के ख़िलाफ़ हूं. इसका मूल मक़सद काले धन पर चोट करना था. सरकार को इसमें कोई कामयाबी नहीं मिली है. बड़े पैसे वाले लोगों ने अपना जुगाड़ कर लिया, काले धन को ‘रिसाइकल’ कर लिया. आम जनता को काफ़ी तकलीफें हुईं.

मुद्रा के अभाव से जो नुकसान हुआ, वह कम है. बड़े उद्योगपतियों या कारपोरेट जगत का ज़्यादातर कामकाज नकद में नहीं होता. उन पर ख़ास असर नहीं पड़ा है.

मझोले और छोटे व्यापारियों और उद्योगपतियों पर कुछ असर पड़ा है. लेकिन उन्होंने भी कुछ न कुछ इंतजाम कर लिया.

मुद्रा की कमी से रिक्शा वालों या रेहड़ी वालों को ज़्यादा दिक्क़तें हैं. व्यापार जगत में उतनी परेशानियां नहीं हैं, जितना दावा किया जा रहा है.

बड़ा नुक़सान यह है कि लोगों का करेंसी से भरोसा उठ गया. लोग कहने लगे हैं कि नए 2,000 के नोट भी बंद हो सकते हैं, 100 रुपए के नोट भी हो सकते हैं. लोगों में घबराहट है. इस वजह से अर्थव्यवस्था सहमी हुई है, वह ज़्यादा महत्वपूर्ण है.

सरकार कहती है कि नोटबंदी की वजह से साढ़े ग्यारह लाख करोड़ रुपए बैंकों में जमा हो गए. इसमें से चार लाख करोड़ रुपए बैंकों ने लोगों को दे दिए. इस हिसाब से बैंकों के पास साढ़े सात लाख करोड़ रुपए जमा हो गए. सरकार के पास पैसे आ गए, पर लोगों के पास नहीं रहे.

ऐसे कई लोग होंगे जो अपनी बचत बैंक में जमा करने के बाद उसे वापस लेकर खर्च नहीं करेंगे. पास में पैसे नहीं होने से जो मनोवैज्ञानिक प्रभाव पड़ेगा, उसका अधिक नुक़सान होगा.

नोटबंदी का जीडीपी पर तीन तरह से असर पड़ेगा. भारत का काला धन अब विदेश चला जाएगा, क्योंकि लोगों के मन में डर बन गया है. लोग डॉलर खरीदने लगे हैं, इसका सबूत यह है कि डॉलर के मुक़ाबले रुपया लगातार टूट रहा है. इससे जीडीपी कम हो जाएगी.

दूसरा असर यह होगा कि लोगों की क्रय शक्ति कम हो जाएगी, भले ही उनके बैंक एकाउंट में पैसे क्यों न हों. क्रय शक्ति कम होने से पूरी अर्थव्यवस्था पर बुरा असर पड़ेगा.

छोटे उद्योगों को भी नकद न होने से दिक्कतें हो रही है. इनके धंधे पर बुरा असर पड़ा है. इससे भी जीडीपी गिरेगा.

मुझे पूरी आशंका है कि भारतीय अर्थव्यवस्था मंदी की चपेट में आ सकती है.

संबंधित खबरें-

नोटबंदी से संबंधित नये तथ्य

छत्तीसगढ़ में नगदी की भारी कमी

नोटबंदी: मिनी स्टील प्लांट संकट में

काले धन को एक और छूट

छत्तीसगढ़ में बिजनेस आधा हो गया

छत्तीसगढ़: सारा धंधा हुआ मंदा

नोटबंदी से संबंधित कुछ तथ्य

छत्तीसगढ़: ट्रांसपोर्ट बिजनेस ठप्प

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!