गरीब भी खरीद सकेंगे जीवनरक्षक दवा

रायपुर | जेके कर: छत्तीसगढ़ के रायपुर में आज से कैंसर, हृदयरोग की दवा सस्ते में मिलने लगेंगी. आज सोमवार को रायपुर के एम्स में केन्द्र सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय के पहल पर ‘अमृत फार्मेसी’ का शुभारंभ किया जा रहा है. इस ‘अमृत फार्मेसी’ में कैंसर, हृदयरोग की दवा तथा शरीर के अंदर प्रत्यारोपित किये जाने वाले उपकरण बेहद सस्ते दामों पर मिला करेंगे.

जिस राज्य में कर्ज न चुका पाने के कारण किसान आत्महत्या कर लेते हैं उस राज्य में जीवनरक्षक दवा सस्ते में उपलब्ध करवाना वह भी सरकारी निगरानी में वाकई एक सुखद समाचार है.


इस ‘अमृत फार्मेसी’ में कैंसर की 202 दवायें, हृदय तथा वाहिनी के रोग की 186 दवायें तथा 148 प्रकार के मानव शरीर में प्रत्यारोपित किये जाने वाले उप करण मिलेंगे. गौरतलब है कि AMRIT PHARMACY (Affordable Medicines and Reliable Implants for Treatment) की शुरुआत केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने नवंबर 2015 से की है.

इसे केन्द्र सरकार के उपक्रम हिन्दुस्तान लेटेक्स के सहयोग से शुरु किया गया है. अन्यथा निजी दवा कंपनियां तो केवल मुनाफा कमाना चाहती हैं उसका जीवनरक्षक दवाओं को सस्ते में बेचने में कोई दिलचस्पी नहीं है.

गौरतलब है कि इस योजना के तहत पूरा जोर कैंसर, हृदयरोग तथा मानव शरीर के अंदर प्रत्यारोपित किये जाने वाले उपकरणों को सस्ते में उपलब्ध करवाना है. यह केन्द्र सरकार के अन्य योजनाओं से भिन्न एक सराहनीय कदम है.

इस ‘अमृत फार्मेसी’ में कैंसर की दवा ‘Docetaxel 120mg’ के एक कोर्स की पूरी दवा मात्र 888 रुपये में मिला करेगी जबकि इस दवा के इतने ही मात्रा का बाजार मूल्य 13,440 रुपये हैं. इस दवा को मुख्यतः स्तन कैंसर के मरीजों को दिया जाता है. महिलाओँ में स्तर कैंसर के अलावा इसे गर्भाशय के कैंसर, पेट के कैंसर, सिर व गर्दन के कैंसर, पुरुषों के प्रोस्टेट के कैंसर तथा फेफड़े के छोटे उत्तकों के कैंसर में भी दिया जाता है.

उल्लेखनीय है कि देश में साल में प्रतिवर्ष 1 लाख 45 हजार स्तन कैंसर के नये केस सामने आ रहे हैं. जिनमें से 50 फीसदी की मौत हो जाती है. सरकारी आकड़ों के अनुसार यह कैंसर की महंगी दवा न खरीद पाने के कारण होती है.

‘Docetaxel 120mg’ के सस्ते मूल्य में मिलने का लाभ छत्तीसगढ़ की संपूर्ण जनता उठा सकती है. अब उन्हें मुंबई के टाटा मेमोरियल या किसी बड़े कैंसर संस्थान से इलाज शुरु करवाकर उसकी दवा अपने राज्य में ही मात्र 7 फीसदी मूल्य पर मिल जाया करेगी.

इसी तरह से Caboplatin 450 mg की दवा 1,316 रुपये में मिल जाया करेगी जबकि इसका बाजार मूल्य 2,561 रुपये का है. इस तरह से यह जीवनरक्षक दवा भी करीब 51 फीसदी मूल्य पर मिला करेगी. इसे महिलाओँ के डिम्बग्रंथि के कैंसर में दिया जाता है. इसमें प्लेटेनियम होता है जो कैंसर कोशिकाओं को फैलने से रोकता है.

हमारें देश में मानव शरीर में प्रत्यारोपित किये जाने वाले उपकरणों मसलन हृदय वाहिनी में लगने वाला स्टेंट का नैगम अस्पताल 80 हजार से लेकर 1 लाख 20 हजार रुपये तक लेते हैं. जबकि यह उन्हें महज 40 हजार रुपयों में ही मिल जाता है. इसी तरह से शरीर के अन्य अंगों में प्रत्यारोपित होने वाले उपकरणों की वहज से चिकित्सा का खर्च भी कई गुना बढ़ जाता है. ‘अमृत फार्मेसी’ में इन प्रत्यारोपित किये जाने वाले उपकरणों के सस्ते में मिलने से छत्तीसगढ़ की जनता अपने चिकित्सा पर लगने वाला खर्च कम कर सकती है.

गौरतलब है कि ‘अमृत फार्मेसी’ को दवा सप्लाई करने वाली इस हिन्दुस्तान लेटेक्स ने साल 2014-15 में 1678 करोड़ रुपयों का व्यापार किया है. टैक्स पटाने के बाद कंपनी को 31.55 करोड़ का मुनाफा हुआ है. पूरे देश में कम कीमत पर दवा सप्लाई करने के लिये इस कंपनी के उत्पादन तथा कारोबार को बढ़ाना पड़ेगा अन्यथा ‘अमृत फार्मेसी’ का हाल भी ‘जन-औषधालयों’ के समान ही हो जायेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!