छत्तीसगढ़ में डेंगू से मौत

भिलाई | समाचार डेस्क: छत्तीसगढ़ के भिलाई में डेंगू से एक मौत हो गई है. संभवतः यह इस साल राज्य में डेंगू से होने वाली पहली मौत है. मिली जानकारी के अनुसार भिलाई नगर निगम में कार्यरत 24 वर्षीय सब इंजीनियर एम संदीप कुमार की डेंगू से मौत हो गई है.

उन्हें रविवार को ही भिलाई स्टील स्लांट के सेक्टर-9 अस्पताल में भर्ती कराया गया गया था. वे पिछले पांच दिनों से बीमार थे.


राष्ट्रीय हैंडबाल खिलाड़ी ए प्रिया राव भी पिछले कुछ दिनों से डेंगू से पीड़ित होने के कारण दुर्ग के चंदूलाल चंद्राकर अस्पताल में भर्ती थी जहां से उन्हें छुट्टी मिल गई है.

भिलाई में अब तक चार लोगों को डेंगू की पुष्टि हो चुकी है. जो मरीज मिले हैं वे अन्य शहरों से संक्रमित होकर आये हैं.

मृतक एम संदीप कुमार के पिता एम मणि का आरोप है कि लापरवाही के कारण उनके बेटे की मौत हो गई है. भिलाई के सेक्टर 9 अस्पताल में उसका वायरल फीवर के लिये इलाज किया जा रहा था. बाद में डेंगू की पुष्टि होने पर इलाज शुरु किया गया था. जबकि पहले से ही उसके खून में प्लेटलेट्स की मात्रा कम पाई गई थी.

डेंगू के लक्षण-
मादा एनाफिलीज मच्‍छर के काटने से डेंगू होता है. सामान्‍य बुखार की तुलना में डेंगू ज्‍यादा पीड़ादायक है. डेंगू होने पर सिरदर्द, जोड़ों पर दर्द, तेज बुखार के साथ चिड़चिड़ापन होने लगता है. बच्‍चों, बड़ों, बूढ़ों पर डेंगू के लक्षण. डेंगू बुखार और त्‍वचा रैशेज तथा खून में प्लेटलेट्स की संख्या काफी कम हो जाती है.

डेंगू को सिर्फ लक्षण के आधार पर पहचाना नहीं जा सकता है. इसके लिये चिकित्सक की सलाह पर खून की जांच करवानी पड़ती है. इसमें बुखार को कम करने के लिये पैरासीटामॉल की गोली ली जाती है. इसमें एस्प्रीन जैसा दवा नहीं ली जा सकती है. खून में प्लेटलेट्स की संख्या कम होने पर उसे दिया जाता है. यह मच्छर द्वारा काटने से एक प्रकार के वायरस से होता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!