कोरबा: बैंक खाते से लाखों निकाले गये

कोरबा | अब्दुल असलम: छत्तीसगढ़ के कोरबा शहर के एक व्यवसायी के बैंक खाते समय फर्जी चेक के आधार पर 6 लाख 20 हजार रुपए का अपहरण कर लिया गया. जब इस बात की जानकारी संचालक को लगी तो उसने बैंक में संपर्क किया. बैंक अधिकारियों के संज्ञान में मामला आते ही उनके होश उड़ गए. मामले की सूचना कोतवाली पुलिस को दी गई. पुलिस ने अज्ञात आरोपी के खिलाफ अपराध पंजीबद्घ की कार्रवाई प्रारंभ कर दी है. पुलिस द्वारा मामले की विवेचना की जा रही है.

कोतवाली थाना क्षेत्र अंतर्गत रामसागरपारा में अशोक कुमार पिता स्व.मोहनलाल गुप्ता का परिवार निवास करता है. अशोक कुमार द्वारा टीपी नगर चौक में छत्तीसगढ़ स्वीट्स का संचालन किया जाता है, जिनका खाता एसएस प्लाजा में संचालित बैंक आफ बड़ौदा में है. अशोक कुमार के मोबाइल पर आज सुबह 11 बजे मैसेज आया कि उनके खाते से 6 लाख 20 हजार रूपए का आहरण हुआ है. मैसेज आते ही श्री गुप्ता के होश उड़ गए कि उन्होंने तो बैंक से इतनी मोटी रकम का आहरण ही नहीं किया है.


जिसके उपरांत श्री गुप्ता परिवार के अन्य सदस्यों के साथ बैंक पहुंचे और उनके खाते से निकाली गई 6 लाख 20 हजार रूपए की जानकारी ली गई तो बैंक के कर्मचारियों ने उन्हें बताया कि सुबह 10.30 बजे श्री गुप्ता के खाते से चेक के माध्यम से उक्त राशि का आहरण किया गया है. श्री गुप्ता की सूचना पर कोतवाली पुलिस की टीम मौके पर पहुंचकर मामले की जांच में जुटी हुई है.

कल निकाला था एक लाख 30 हजार
श्री गुप्ता ने बताया कि गुरूवार को उनके द्वारा बैंक से 1 लाख 30 हजार की राशि आहरण की गई थी. उनके पास जो चेक है उनमें से यह दूसरा चेक है. फर्जी आहरण के लिए आरोपी ने चेक बुक का इस्तेमाल किया है.

नकली अशोक कुमार बनकर लिया नया चेकबुक
बताया जाता है कि जिस व्यक्ति ने बैंक से 6 लाख 20 हजार रूपए का आहरण किया है वह गुरूवार को अपने आपको अशोक कुमार बताते हुए बैंक पहुंचा था और चेकबुक खत्म होने की बात कहते हुए कल नया चेकबुक अपने नाम से जारी करवाया था. जिस चेकबुक से 6 लाख 20 हजार आहरण किया गया है उस चेक में उक्त व्यक्ति ने आगे और पीछे दो-दो हस्ताक्षर किया है. अशोक कुमार का कहना है कि कभी भी चेक के माध्यम से राशि आहरण करने पर आगे और पीछे मात्र एक-एक हस्ताक्षर ही किया जाता है जबकि उक्त व्यक्ति द्वारा दो-दो हस्ताक्षर किए गए हैं.

बैंक प्रबंधन पर लापरवाही का आरोप

श्री गुप्ता ने बैंक प्रबंधन पर आरोप लगाया है कि प्रबंधन की लापरवाही की वजह से उक्त राशि को किसी अज्ञात व्यक्ति ने आहरण किया है. कोतवाली पुलिस की टीम सीसी टीवी फुटेज की मदद से आरोपी की खोजबीन में जुटी हुई है. इस घटना की सूचना मिलने पर चेम्बर के अध्यक्ष रामसिंह अग्रवाल सहित अन्य व्यक्ति बैंक पहुंच गए हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!