रायपुर में 1करोड़ का धान जप्त

रायपुर | संवाददाता: छत्तीसगढ़ के रायपुर के तिल्दा तथा नवापारा में राइस मिलर्स के यहां से प्रशासन ने 1 करोड़ रुपये का धान जप्त कर लिया है. जांच में तिल्दा के हरिओम चांवल उद्योग के द्वारा 17000 क्विंटल धान को खूले बाजार में बेचने का भी खुलासा हुआ है. सरकारी धान को अपने कारोबार में उपयोग किया जाना छत्तीसगढ़ चांवल उपाप्ति आदेश, 2007 के प्रावधानों का स्पष्ट उल्लंधन है, इस कारण मिलर्स के विरूद्ध कार्रवाई की जा रही है.

उल्लेखनीय है कि पिछले एक सप्ताह में खाद्य विभाग द्वारा दस राईस मिलरों के विरूद्ध कार्रवाई करते हुए लगभग दस करोड़ रूपए मूल्य का धान एवं चावल जप्त किया गया है.


छत्तीसगढ़ के रायपुर के खाद्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार सोमवार दो टीम, जिसमें सहायक खाद्य अधिकारी संजय दुबे एवं आर. सी. गुलाटी सहित खाद्य निरीक्षक अनिल जैन, शाह जफर खॉ, भारती हर्ष, बिन्दु प्रधान ने तिल्दा के सासाहोली ग्राम में स्थित हरिओम चावल उद्योग में छापा मारा. मौके पर राईस मिल के द्वारा खरीफ वर्ष 2013-14 में कस्टम राईस मिलिंग के लिए अनुबंध किया गया था, जिसमें से 17000 क्विंटल धान मौके पर पाया जाना था, क्योकि राईस मिलर के द्वारा इस मात्रा के धान का मिलिंग कर चावल जमा नहीं किया गया था.

खाद्य विभाग के अधिकारियो ने मौके पर धान के मात्रा निरंक पायी, जिसमें यह स्पष्ट हो गया है कि मिलर्स के द्वारा सरकार को अपने व्यक्तिगत कारोबार के लिये उपयोग कर लिया गया है. जांच अधिकारियो ने मौके पर 2355 क्विंटल धान को जप्त कर लिया है.

इसी तरह से छत्तीसगढ़ के नवापारा स्थित संदीप पैडी प्रोसेसिग यूनिट में खाद्य विभाग के अधिकारियो ने छापा मारा और यह पाया कि मिलर के द्वारा शासन के 64000 क्विटल धान का अनुबंध किया गया है और 11000 क्विटल धान का उठाव नहीं किये जाने के साथ-साथ उठाये गये धान की मात्रा में से 3000 क्विंटल चावल जमा कराया जाना शेष है.

शासन के नियमों का पालन नहीं किये जाने के कारण मौके पर उपलब्ध 2340 क्विटल धान और 190 क्विटल चावल को जप्त कर लिया गया है.

दोनो फर्मो के विरूद्व छत्तीसगढ़ चावल उपाप्ति आदेश 2007 के तहत प्रकरण दर्ज किया गया है. सभी राईस मिलर जिनके द्वारा शासन से धान का अनुबंध किया गया है और धान का उठाव नहीं किया जा रहा है उन्हे जल्द धान का उठाव करने कहा गया है. निर्धारित समयावधि में धान का उठाव नहीं करने पर सख्त कार्रवाई की जाएगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!