छत्तीसगढ़: रेप पीड़िता को धमकी

रायपुर | समाचार डेस्क: छत्तीसगढ़ की एक रेप पीड़िता ने पुलिस पर धमकी व मामले को रफा-दफा करने का आरोप लगाया है. रविवार को रेप पीड़िता ने संवाददाताओं को बताया कि पुलिस के अफसर मामले को दबाना चाहते हैं. गौरतलब है कि इस मामले में पुलिस चौकी के प्रभारी पर ही रेप का आरोप है. महासमुंद के तेंदूकोना थाना अंतर्गत पुलिस चौकी बुंदेली में पदस्थ सब इंस्पेक्टर चौकी प्रभारी पर महिला ने बलात्कार का आरोप लगाया है.

रेप पीड़िता महिला के अनुसार 17 अगस्त को ग्राम सेवाती (कोल्दा) निवासी 25 वर्षीया पीडि़ता पुलिस चौकी बुंदेली में पति के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराने गई थी जहां पुलिस चौकी में पदस्थ मुंशी ने उनकी लिखित शिकायत लेकर पुलिस हस्तक्षेप अयोग्य अपराध की कॉपी पर हस्ताक्षर करा लिया. मोहर्रिर को चौकी प्रभारी ने फोन पर सूचना दी कि उक्त महिला को मेरे आते तक चौकी में रखना. रात करीब 9 बजे चौकी प्रभारी अपने एक दोस्त के साथ चौकी आये. उन्होंने महिला को चौकी के पीछे वाले कमरे में ले जाकर बलात्कार किया.

पीडि़ता का यह भी आरोप है कि चौकी प्रभारी ने घटना के बारे में किसी को बताने पर जेल में डालने की धमकी दी. महिला का यह भी कहना है कि वहां पदस्थ पुलिस वालों ने इस घटना को आंखों से देखा है. रात लगभग ढाई बजे महिला को उसके घर छोड़ दिया गया.

मामले की शिकायत पीडि़ता ने शुक्रवार को पुलिस अधीक्षक महासमुंद एवं पुलिस महानिरीक्षक रायपुर से की है. हालांकि चौकी प्रभारी ने महिला द्वारा लगाए आरोपों को गलत बताया है.

उधर, पीड़िता के पति ने बताया कि पुलिस अधिकारी ने शपथ पत्र दिखाया, जिसमें पीड़िता बहकावे में आकर गलत शिकायत करने और ‘चौकी प्रभारी ने कोई गलत काम नहीं किया’ जैसी सफाई दे रही है. जबकि पीड़िता का दावा है कि उसने ऐसा कोई शपथ पत्र नहीं दिया है.

महासमुंद एसपी नेहा चंपावत के मुताबिक पुलिस पर आरोप बेबुनियाद है. पीड़िता ने पुलिस को शपथ पत्र दिया है. घटना व शपथ पत्र की जांच जारी है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *