छत्तीसगढ़: रायपुर रेप की राजधानी

रायपुर | संवाददाता: रायपुर छत्तीसगढ़ की ही नहीं बल्कि राज्य की रेप की राजधानी भी है. यहां पर पिछले दो सालों में 411 रेप के मामले दर्ज किये गये हैं. इसके अलावा रायपुर में लड़कियों से छेड़छानी भी ज्यादा मात्रा में होती है. रायपुर में दो सालों में छेड़छाड़ के 577 मामले दर्ज हैं. कम से कम पिछले दो के आकड़े तो यहीं बयां करते हैं. रायपुर में पिछले दो सालों में गैंग रेप के 11 मामले दर्ज करवाये गयें हैं.

यह आकड़े सरकारी हैं तथा साल 2013-14 तथा 2014-15 के 31 अक्टूबर तक के हैं.


महिलाओं पर अत्याचार के मामले में छत्तीसगढ़ की न्यायधानी बिलासपुर भी पीछे नहीं है. बिलासपुर में दो सालों में रेप को 288 मामले दर्ज किये गयें हैं. बिलासपुर गैंग रेप के 8 मामले तथा महिलाओं से छेड़छानी के 808 मामले दर्ज हैं.

छत्तीसगढ़ में सबसे ज्यादा गैंग रेप जशपुर में हुये हैं. जशपुर में दो सालों में गैंग रेप के 20 मामले प्रकाश में आये हैं. जशपुर में रेप के 206 तथा छेड़छानी के 124 मामले दर्ज हुये हैं.

गैंग रेप के मामलों में कोरबा राज्य में दूसरे नंबर है. यहां पर गैंग रेप के 13 मामले दर्ज हैं.

जहां तक राज्य में हो रही हत्याओं का आकड़ा है तो रायपुर इसमें भी आगे है. सरकारी आकड़ों के अनुसार रायपुर में कुल 177 हत्यायें हुई हैं. राज्य में सबसे ज्यादा हत्या के मामले रायगढ़ में 203, बिलासपुर में 186 हुये हैं. रायपुर का स्थान इसमें तीसरा है.

छत्तीसगढ़ में रेप के सबसे कम मामले सुकमा में दर्ज किये गये हैं. सुकमा में केवल 12 रेप हुये तथा गैंग रेप का एक भी मामला प्रकाश में नहीं आया है.

छत्तीसगढ़ में महिलाओं से सबसे कम छेड़छानी के मामले सूरजपुर में दर्ज हुये हैं. यहां पर छेड़छानी के केवन 3 मामले दर्ज हैं.

छत्तीसगढ़ में पिछले दो सालों में 2320 हत्या, रेप के 3779, गैंग रेप के 148 तथा महिलाओं से छेड़छानी के 4920 मामले प्रकाश में आये हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!