छत्तीसगढ़: स्मार्ट मीटर लगेगे

रायपुर | संवाददाता: छत्तीसगढ़ प्रवास पर आये केन्द्रीय राज्य मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि यहां पर बिजली के स्मार्ट मीटर लगेगे. मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा है कि छत्तीसगढ़ में बिजली देश के अन्य राज्यों की तुलना में सबसे सस्ती दर पर लोगों को बिजली की आपूर्ति की जा रही है. उन्होंने कहा कि हम ना केवल सस्ती दर पर बल्कि बिना किसी कटौति के चौबीसों घंटे बिजली उपलब्ध करा रहे हैं. मुख्यमंत्री डॉ. सिंह मंगलवार यहां मंत्रालय में केन्द्रीय ऊर्जा एवं कोयला मंत्री राज्य मंत्री पीयूष गोयल की उपस्थिति में आयोजित ऊर्जा और खनिज विभाग की बैठक को सम्बोधित कर रहे थे.

मुख्यमंत्री ने छत्तीसगढ़ में विद्युतविहीन ग्रामों में विद्युतिकरण के लिए राज्य सरकार की ओर से भेजे गए प्रस्ताव को स्वीकृत करने का आग्रह केन्द्रीय मंत्री से किया. इस पर राज्य मंत्री गोयल ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण विद्युतिकरण योजना के प्रस्ताव सहित अन्य प्रस्तावों को शीघ्र मंजूरी दी जाएगी. उन्होंने कहा कि राज्य के विद्युत विहीन ग्रामों और मजरों-टोलों में विद्युतीकरण के लिए राज्य सरकार को 1500 करोड़ रूपए उपलब्ध कराए जाएंगे. इसमें एक हजार करोड़ ग्रामीण विद्युतिकरण निगम से रियायती ब्याज दर पर ऋण के रूप में उपलब्ध कराए जांएगे. बैठक में छत्तीसगढ़ के नगरीय प्रशासन और वाणिज्य तथा उद्योग मंत्री अमर अग्रवाल भी उपस्थित थे.


केन्द्रीय राज्य मंत्री गोयल के समक्ष ऊर्जा विभाग के प्रमुख सचिव अमन कुमार सिंह ने छत्तीसगढ़ में विद्युत की स्थापित क्षमता, संभावनाओं, विद्युत कम्पनियों की वित्तीय स्थिति तथा चुनौतियों पर आधारित प्रस्तुतिकरण दिया. राज्य मंत्री गोयल ने राज्य की चारों विद्युत कम्पनियों की सुदृढ़ वित्तीय स्थिति पर प्रसन्नता व्यक्त की और कहा कि पूरे देश में बिजली की समस्या को हल करने में छत्तीसगढ़ का महत्वपूर्ण योगदान होगा.

उन्होंने कहा छत्तीसगढ़ की बिजली पूरे देश में आसानी से पहुंचे इसके लिए विद्युत ग्रिड को और सुदृढ़ बनाया जाएगा. केन्द्रीय राज्य मंत्री ने बैठक में कहा कि बिजली की खपत कम करने लिए राज्य में ज्यादा से ज्यादा संख्या में लोगों को एलईडी बल्ब के उपयोग को प्रोत्साहित किया जाए. उन्होंने पांच सौ यूनिट से ज्यादा बिजली खर्च करने वाले उपभोक्ताओं के घरों में स्मार्ट विद्युत मीटर लगाने का भी सुझाव दिया. राज्य मंत्री गोयल ने कहा कि किसानों को कम खर्च पर तीन और पांच हॉर्सपावर के विद्युत पम्पों की आपूर्ति कैसे की जाए, इस पर केन्द्र सरकार विचार कर रही है. उन्होंने खनिज विभाग की परियोजनाओं की भी समीक्षा की.

बैठक में ऊर्जा विभाग के प्रमुख सचिव अमन कुमार सिंह ने ऊर्जा विभाग के कार्यों और उपलब्धियों का प्रस्तुतिकरण दिया. उन्होंने बताया कि छत्तीसगढ़ में विद्युत की कुल स्थापित क्षमता 19 हजार 827 मेगावॉट है. बारहवीं योजना की समाप्ति पर यह बढ़कर 34 हजार 647 मेगावॉट हो जाएगा. उन्होंने बताया कि राज्य सेक्टर की मड़वा प्लांट अगस्त 2015 तक शुरू हो जाएगा. खनिज विभाग के सचिव सुबोध सिंह ने खनिज विभाग द्वारा केन्द्र सरकार को भेजे गए प्रस्तावों, लंबित परियोजनाओं का प्रस्तुतिकरण दिया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!