छत्तीसगढ़ का हर विधायक करोड़पति

ऱायपुर | संवाददाता : छत्तीसगढ़ में हर विधायक के पास 8.8 करोड़ की संपत्ति है. छत्तीसगढ़ राज्य बने 14 साल हो गये हैं और देश में आबादी के हिसाब से सर्वाधिक 47.5 प्रतिशत गरीब छत्तीसगढ़ में बसते हैं. लेकिन राज्य का हर विधायक का औसत निकाला जाये तो हरेक विधायक के हिस्से 8.8 करोड़ रुपये की संपत्ति है.

राज्य इस साल हुए लोकसभा चुनाव में पुन: निर्वाचित 168 सांसदों की औसत संपत्ति 12.78 करोड़ रुपए आंकी गई, जो 2009 में चुनाव के बाद की उनकी संपत्ति से 137 फीसदी अधिक थी. मगर मध्य प्रदेश विधानसभा में पुन: निर्वाचित विधायकों की संपत्ति में यही औसत इजाफा 290 फीसदी, हरियाणा में 245 फीसदी, महाराष्ट्र में 157 फीसदी और छत्तीसगढ़ में 147 फीसदी दर्ज किया गया. यह सभी दोबारा निर्वाचन पिछले 10 महीनों के दौरान हुए हैं.


एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स द्वारा जुटाए गए आंकड़ों के अनुसार कई सांसदों की संपत्ति 200 फीसदी तक बढ़ी है. हरियाणा और महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के बाद विधानसभा में फिर पहुंचे विधायकों की संपत्ति की तुलना पुनर्निर्वाचित सांसदों के साथ की जा सकती है, जबकि मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ के विधायक इस मामले में और भी आगे हैं.

इन राज्यों में विधायकों की संपत्ति में इतनी बड़ी बढ़ौतरी की एक वजह यह भी हो सकती है कि इन राज्यों के विधायकों की संपत्ति का आधार काफी कम रहा हो और अब उसमें आई तेजी बढ़े औसत को दर्शा रही हो. अगर प्रति व्यक्ति आय की बात करें तो हरियाणा और महाराष्ट्र की प्रति व्यक्ति आय छत्तीसगढ़ और महाराष्ट्र की तुलना में लगभग ढाई गुना अधिक है.

फिर भी मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में 70 फीसदी से भी अधिक विधायक ऐसे हैं, जिनकी संपत्ति एक करोड़ रुपए से अधिक है.

छत्तीसगढ़ में एक विधायक की औसत संपत्ति 8.8 करोड़ रुपए है जबकि मध्य प्रदेश में यही औसत 5.24 करोड़ रुपए है. विधायकों की औसत संपत्ति के मामले में हुए इजाफे में भी छत्तीसगढ़ सबसे आगे रहा है. वर्ष 2008 में छत्तीसगढ़ के विधायकों की औसत संपत्ति जहां 1.45 करोड़ रुपए थी, जो 2013 में बढ़कर 8.8 करोड़ रुपए हो गई.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!