किडनी के रोग और उपचार

डॉ. संजय शर्मा
किडनी रोग के लक्षण और उसके उपचार के बारे में हमेशा चर्चा होती है. लेकिन ऐसे उपचारों को लेकर हमेशा संशय बना रहता है. किडनी का मूल काम खून को साफ कर शरीर के विषाक्त चीजों को मूत्र के रास्ते से बाहर निकालना है. लेकिन कई बार इसमें बाधा आ जाती है. किडनी से संबंधित मुख्य रोग हैं- किडनी फेल्योर, किडनी में सूजन आना, नेफ्रोटिक सिन्ड्रोम, पेशाब के संक्रमण का रोग, मूर्त्रमार्ग में पथरी, प्रोस्टेट की बीमारियां, मूत्रमार्ग में जन्म से तकलीफ, मूत्रमार्ग का कैंसर.

यहां हम फिलहाल किडनी में होने वाले दर्द की चर्चा करेंगे. आपकी किडनी में दर्द की शिकायत हो तो अनिवार्य रुप से आप अपने चिकित्सक से परामर्श करें. लेकिन आरंभिक तौर पर कुछ घरेलू उपाय करके आप अपनी किडनी को स्वस्थ रख सकते हैं. किडनी को स्वस्थ रखने के लिये अपने खान-पान पर हमेशा ध्यान दें. उम्र और ऊंचाई का ध्यान रखते अपना वजन सीमा में रखें.


हम सब खाने-पीने में नमक की मात्रा की हमेशा उपेक्षा करते हैं. आम तौर पर हमारे भोजन में प्राकृतिक रुप से नमक होता है. ऐसे में जरुरी है कि ऊपर से जब नमक का इस्तेमाल करें तो उसकी मात्रा अधिक न हो. भरपूर पानी का उपयोग किडनी को ठीक रखने का एक कारगर उपाय है.अगर आपको किडनी की समस्या है तो शराब और धूम्रपान आपके लिये जानलेवा साबित हो सकते हैं. इससे जितना बच सकते हैं, बचें.

किडनी में दर्द हो तो अपने चिकित्सक की राय जरुर लें. इसके अलावा चिकित्सक की सलाह से आप यह घरेलू उपाय भी अपना सकते हैं. बिना योग्य चिकित्सक की सलाह के इस उपाय को अपनाना निषेध है.

छाया में सुखाई हुई 20 ग्राम तुलसी की पत्तियां और इतनी ही मात्रा में आजवाइन लें और इसमें 10 ग्राम सेंधा नमक मिला कर इसे खरल में डाल कर इसका चूर्ण बना लें. अब इस चूर्ण को 2-2 ग्राम सुबह-शाम कुनकुने पानी के साथ लें. आप इस चूर्ण का इस्तेमाल एक-दो दिन करके देखें, लाभ होगा. इस दौरान चावल और पालक का इस्तेमाल करने से बचें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *