मांझी कब तक मुख्यमंत्री रह पायेंगे?

पटना | समाचार डेस्क: बिहार के ताजा घटनाक्रम से जाहिर होता है कि मांझी अब ज्यादा दिनों तक बिहार के मुख्यमंत्री नहीं रह सकते हैं. 7 फऱवरी को बिहार जदयू विधायक दल की बैठक बुलाई गई है संभवतः उस बैठक में कोई निर्णय लिया जा सकता है. ऐसा प्रतीत होता है कि नीतीश कुमार फिर से बिहार का मुख्यमंत्री बनना चाह रहें हैं तथा लालू प्रसाद यादव भी उनके साथ हैं. वहीं, मांझी आसानी से अपना पद त्याग देगें इसमें भी शक है. बिहार में सत्ताधारी जनता दल युनाइटेड में आंतरिक तकरार अब निर्णायक मोड़ पर सामने आता दिख रहा है. पार्टी के सूत्रों के मुताबिक, पार्टी ने मांझी से इस्तीफा मांग लिया है. हालांकि इसकी पुष्टि कोई नहीं कर रहा है. इधर, पार्टी विधायक दल की सात फरवरी को एक बैठक बुलाई गई है. जदयू के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने गुरुवार को कहा कि सात फरवरी को शाम चार बजे विधानसभा एनेक्सी भवन में पार्टी विधायक दल की बैठक बुलाई गई है, जिसमें नेतृत्व परिवर्तन सहित कई मुख्य मुद्दों पर चर्चा की जाएगी.

इस बीच गुरुवार सुबह जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष शरद यादव पूर्व मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ उनके आवास पर बैठक करने के बाद सीधे मुख्यमंत्री आवास पहुंचे जहां जीतन राम मांझी से मुलाकात की. इसके बाद यादव फिर नीतीश के सरकारी आवास पहुंचे और उनके साथ लंबी मंत्रणा की. इस दौरान राष्ट्रीय अध्यक्ष यादव पत्रकारों के किसी भी सवाल से बचते रहे.


इधर, मांझी से इस्तीफा मांगने के विषय में पूछे जाने पर नीतीश ने कहा “मेरे पास मुख्यमंत्री को लेकर कोई सूचना नहीं है.”

सूत्रों के अनुसार, शरद यादव मुख्यमंत्री से इस्तीफा देने के लिए राजी करने के लिए मुख्यमंत्री आवास गए थे.

उल्लेखनीय है कि बुधवार की रात मांझी चाणक्य होटल में शरद यादव से मिलने पहुंचे थे.

उधर, भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता और बिहार विधानसभा में विपक्ष के नेता नंदकिशोर यादव ने गुरुवार को कहा कि राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष लालू प्रसाद और पूर्व मुख्यमंत्री नीतीश कुमार अब जीतन राम मांझी को मुख्यमंत्री पद से हटाना चाहते हैं. पटना में पत्रकारों से चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि लालू और नीतीश सबके सामने तो मांझी के मुख्यमंत्री पद पर बने रहने की बात करते हैं, लेकिन पर्दे के पीछे उन्हें हटाने की साजिश रच रहे हैं.

उन्होंने स्पष्ट रूप से कहा कि नीतीश वोट बैंक की खातिर पहले महादलित परिवार से आए मांझी को मुख्यमंत्री बनाया और जब देखा कि मांझी लोकप्रिय हो रहे हैं तो उन्हें हटाने की साजिश रचने लगे.

उन्होंने कहा कि जदयू की अंदरूनी लड़ाई के कारण बिहार में विकास का काम पूरी तरह ठप है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!