मीडिया की आजादी नहीं होगी खत्म: रमन

रायपुर | जनसम्पर्क: छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा है कि मीडिया की स्वतंत्रता को खत्म करने का प्रयास लोकतंत्र में कभी सफल नहीं हो सकता.

उन्होंने कहा कि भारत में अलग-अलग समय में मीडिया की अलग-अलग भूमिका देखी गई है. स्वतंत्रता आंदोलन में राष्ट्रीय चेतना के विस्तार और जनजागरण में निश्चित रूप से उसकी अत्यन्त महत्वपूर्ण भूमिका थी. आजादी के बाद से अब तक भारतीय मीडिया लगातार अपनी स्वतंत्र और निष्पक्ष भूमिका निभा रहा है.

उन्होंने कहा कि मीडिया की सकारात्मक रिपोर्टिंग की वजह से छत्तीसगढ़ की नक्सल समस्या को लेकर राज्य के बाहर के लोगों का भ्रम काफी हद तक दूर हुआ है. अब राष्ट्रीय मीडिया में छत्तीसगढ़ की चर्चा हमारी सार्वजनिक वितरण प्रणाली के आदर्श मॉडल और हमारे खाद्य सुरक्षा एवं पोषण सुरक्षा कानून को लेकर हो रही है.

मुख्यमंत्री ने सोमवार को राजधानी रायपुर में नई दिल्ली की मासिक पत्रिका ‘तहलका’ के छत्तीसगढ़ संस्करण का विमोचन करते हुए इस आशय के विचार व्यक्त किए. विमोचन समारोह में आयोजकों ने ‘मीडिया की स्वतंत्रता क्यों होनी चाहिए’ विषय पर एक विचार गोष्ठी का भी आयोजन किया.

मुख्यमंत्री ने विचार गोष्ठी में कहा कि लोकतांत्रिक समाज में मीडिया की स्वतंत्रता बहुत जरूरी है. उन्होंने कहा कि मीडिया को लोक कल्याण की भावना के अनुरूप देश और समाज की समस्याओं को उजागर करने के साथ-साथ जनता की बेहतरी और राष्ट्र तथा राज्य के विकास के लिए हो रहे सकारात्मक कार्यों पर भी वैचारिक रिपोर्टिंग करनी चाहिए.

मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने छत्तीसगढ़ के संदर्भ में कहा कि हमारे यहां नक्सलवाद की समस्या जरूर एक गंभीर समस्या है. नक्सलवाद हमारे लोकतंत्र के लिए खतरनाक भी है, लेकिन यह छत्तीसगढ़ के एक छोटे हिस्से में सीमित है इसके बावजूद राष्ट्रीय स्तर पर मीडिया में कुछ वर्ष पहले तक छत्तीसगढ़ को लेकर जो भी चर्चा होती थी वह अधिकांशतः नक्सल समस्या पर केन्द्रित रहती थी.

राज्य के बाहर के लोगों को मीडिया में ऐसी चर्चा को देखकर और पढ़कर ऐसा भ्रम होता था कि हमारे यहां हर जगह नक्सल हिंसा हो रही है और रायपुर में एयरपोर्ट में उतरने के बाद जब भी यात्री शहर की ओर जाएंगे तो गोलियां चल रही होंगी और उन्हें सड़कों पर नक्सली खून खराबा करते मिलेंगे. ऐसी भ्रामक सोच से जनता को बचाने के लिए मीडिया सकारात्मक भूमिका निभा सकता है.

उन्होंने कहा कि यह अच्छी बात है कि अब राष्ट्रीय स्तर के मीडिया में भी छत्तीसगढ़ क़ी सार्वजनिक वितरण प्रणाली तथा यहां के खाद्य सुरक्षा कानून जैसे सकारात्मक पहलुओं को लेकर अच्छी चर्चा हो रही है और निष्पक्ष रूप से अच्छा लिखा और दिखाया भी जा रहा है. इससे छत्तीसगढ़ की नक्सल समस्या को लेकर राज्य के बाहर के लोगों में व्याप्त भ्रम काफी हद तक दूर हुआ है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि नक्सल समस्या वास्तव में राष्ट्रीय समस्या है और छत्तीसगढ़ उसका पूरी दृढ़ता से और जिम्मेदारी के साथ मुकाबला कर रहा है और जब तक पूरे देश से यह समस्या खत्म नहीं हो जाती तब तक छत्तीसगढ़ इसका पूरी मुस्तैदी से मुकाबला करता रहेगा. डॉ. रमन सिंह ने कहा कि आज नहीं तो कल छत्तीसगढ़ स़े नक्सल हिंसा शत-प्रतिशत खत्म होकर रहेगी और विकास की मुख्य धारा को हिंसा और आतंक के सहारे कभी भी रोका नहीं जा सकेगा.


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *