‘मुन्नाभाई’ ने माफी नहीं मांगी

मुंबई | मनोरंजन डेस्क: बॉलीवुड में ‘मुन्नाभाई’ के नाम से मशहूर संजय दत्त के वकील ने उनके द्वारा राज्यपाल से माफी मांगे जाने की खबरों का खंडन किया है. गुरुवार को खबर मिली थी कि संजय दत्त ने महाराष्ट्र के राज्यपाल से माफी मांगी है जिसे खारिज कर दिया गया है. संजय दत्त के वकीलों ने बयान जारी करके बताया है कि संजय दत्त या परिजनों की ओर से पूर्व न्यायधीश न्यायमूर्ति मार्कन्डेय काटजू से भी इसके लिये गुजारिश नहीं की है. संजय दत्त की क्षमा याचिका खारिज होने की खबरों के बाद शुक्रवार को उनके अधिवक्ता ने कहा कि अभिनेता ने कभी सजा रद्द करने के लिए अर्जी नहीं लगाई थी. दत्त के अधिवक्ता हितेश जैन और सुभाष जाधव ने एक संयुक्त बयान में कहा कि महाराष्ट्र के राज्यपाल सी.वी. राव द्वारा दत्त की क्षमा याचिका खारिज करने की खबर सर्वोच्च न्यायालय के पूर्व न्यायमूर्ति मार्कन्डेय काटजू की ओर से दत्त और अन्य दोषियों की सजा रद्द करने की बाबत किए गए आवेदन पर ‘आधारित’ है.

संजय दत्त की शेष सजा रद्द करने के लिए मार्च 2013 को सर्वोच्च न्यायालय के पूर्व न्यायमूर्ति मार्कन्डेय काटजू ने याचिका दाखिल की थी. पत्र की शक्ल वाली इस याचिका में राष्ट्रपति, तत्कालीन प्रधानमंत्री, केंद्रीय गृह मंत्री और अन्य शीर्ष अधिकारियों को संबोधित किया गया था.

पूर्व न्यायाधीश काटजू ने अपनी याचिका में यह तर्क देते हुए दत्त को माफी देने का आग्रह किया था कि वह एक आतंकवादी नहीं हैं. काटजू ने इस बम विस्फोट मामले के एक अन्य दोषी जैबुनिस्सा काजी को भी क्षमादान देने का आग्रह किया था.

दत्त अपनी बेटी की चिकित्सा संबंधी दिक्कतों की वजह से 27 अगस्त से फर्लो पर हैं.

बयान में कहा गया, “दत्त या उनके परिजनों ने कभी भी राज्यपाल को क्षमा प्रदान करने के लिए इस तरह का आवेदन नहीं किया. इसके अलावा दत्त या उनके परिजनों ने न्यायाधीश काटजू से दत्त की ओर से ऐसा आवेदन करने के लिए कभी भी संपर्क नहीं किया.”

दत्त 1993 में मुंबई में हुए सिलसिलेवार बम विस्फोटों से जुड़े एक मामले में दोषी करार दिए गए हैं.

वर्ष 1996 में उन्हें इस मामले में गिरफ्तार किया गया था और उस समय उन्होंने 18 महीने जेल में बिताई थी, इसके बाद उन्हें जमानत मिल गया था. वर्ष 2013 में उन्हें पांच वर्ष जेल की सजा सुनाई गई. अब उन्हें 42 महीने जेल में में रहना होगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *