14 नये अनुविभाग बनाने की प्रक्रिया शुरु

रायपुर: छत्तीसगढ़ में 14 नये राजस्व अनुविभाग गठित करने की प्रक्रिया शुरु हो गई है. राजस्व मंत्री दयालदास बघेल ने इस आशय की घोषणा करते हुये कहा कि नये अनुविभाग निर्मित करने और इसके लिए वर्तमान अनुविभागों की सीमाओं को बदलने के प्रस्ताव पर आधारित सूचना छत्तीसगढ़ सरकार के राजपत्र में जल्द प्रकाशित की जाएगी. राजपत्र में प्रकाशन की तारीख से 60 दिनों के भीतर इन प्रस्तावों पर सुझाव या आपत्तियां जारी की जा सकेंगी.

गौरतलब है कि मुख्यमंत्री रमन सिंह ने वर्तमान वित्तीय वर्ष 2012-13 की बजट में इन अनुविभागो के निर्माण की घोषणा की थी. नये राजस्व अनुविभाग जांजगीर-चाम्पा जिले के अंतर्गत चाम्पा और डभरा में, गरियाबंद के देवभोग में, बिलासपुर के बिल्हा, मस्तुरी और कोटा में, कबीरधाम के बोड़ला में, बलरामपुर-रामानुजगंज के वाड्रफनगर में, कोरबा के पोंड़ी-उपरोड़ा में, उत्तर बस्तर (कांकेर) के अंतागढ़ में, धमतरी के कुरूद में, मुंगेली के लोरमी और पथरिया में तथा रायपुर के अभनपुर में प्रस्तावित हैं. ये सभी नये प्रस्तावित राजस्व अनुविभाग वर्तमान में तहसील के रूप में हैं. इनमें से प्रस्तावित अंतागढ़ अनुविभाग में तहसील अंतागढ़ और उप तहसील कोयलीबेड़ा को तथा प्रस्तावित कुरूद अनुविभाग में तहसील कुरूद, मगरलोड और उप तहसील भखारा को शामिल करने का प्रस्ताव है.

राजस्व मंत्री ने बताया कि शेष बारह नये प्रस्तावित राजस्व अनुविभागों के अंतर्गत चाम्पा में तहसील चाम्पा, डभरा में तहसील डभरा, देवभोग में तहसील देवभोग, बिल्हा में तहसील बिल्हा, मस्तुरी में तहसील मस्तुरी, कोटा में तहसील कोटा, बोड़ला में तहसील बोड़ला, वाड्रफनगर में तहसील वाड्रफनगर, पोंड़ी-उपरोड़ा में तहसील पोड़ी-उपरोड़ा, लोरमी में तहसील लोरमी, पथरिया में तहसील पथरिया और अभनपुर में तहसील आरंग तथा अभनपुर को शामिल करने का प्रस्ताव है.

राजस्व विभाग के सचिव बी.एल. अग्रवाल ने बताया कि प्रत्येक प्रस्तावित नये राजस्व अनुविभाग के लिए प्रथम चरण में छह-छह पद भी स्वीकृत किए जा चुके हैं, जिनमें एक डिप्टी कलेक्टर, एक रीडर, एक स्टेनो, एक लिपिक और एक भृत्य का पद भी शामिल है. इसके लिए वर्ष 2012-13 के बजट में प्रावधान किया जा चुका है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *