बंद किए जाएंगे 26 सहकारी बैंक

वाराणसी: भारतीय रिज़र्व बैंक के डिप्टी गर्वनर के.सी.चक्रवर्ती का कहना है कि देश के 26 सहकारी बैंकों का लाइसेंस रद्द कर उन्हें बंद कर दिया जाएगा. यूनियन बैंक ऑफ इंडिया द्वारा आयोजित एक ऋण वितरण समारोह में आए श्री चक्रवर्ती के अनुसार ये सहकारी बैंक वो हैं जो दो हज़ार करोड़ रुपयों से अधिक के घाटे में चल रहे हैं.

उन्होंने बताया कि रिज़र्व बैंक ने इन सहकारी बैंकों को घाटे से उबरने देने के लिए एक निश्चित समयसीमा तय की थी लेकिन अब वह समयसीमा भी पूरी होने वाली है. इन 26 सहकारी बैंकों में से 16 ऐसे हैं जो उत्तरप्रदेश के विभिन्न जिलों में संचालित हैं. उन्होंने कहा कि देश ऐसे बैंकों की कतई जरूरत नहीं है जहां 90 फीसदी जमाकर्ताओं का पैसा डूब चुका हो.


श्री चक्रवर्ती ने बताया कि रिज़र्व बैंक ने नए बैंक लाइसेंसों के लिए गाइडलाइन तैयार कर ली है और जल्द ही इस प्रक्रिया की शुरुआत की जाएगी. उन्होंने यह भी कहा कि रिज़र्व बैंक का लक्ष्य अगले दो सालों में हर व्यक्ति को बैंकिंग सुविधा से जोड़ने का है, भले ही वो अमीर हो या गरीब.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!