बागी कम्युनिस्ट नेता एमवी राघवन का निधन

कन्नूर | एजेंसी: सीपीएम के बागी नेता एमवी राघवन का निधन हो गया है. एमवी राघवन को सीपीएम से निकाले जाने के बाद उन्होंने नई कम्युनिस्ट पार्टी बनाकर अपना राजनीतिक संघर्ष जारी रखा था. सीपीएम में रहते उन्हें केरल में पार्टी के शीर्ष नेतृत्व के रूप में देखा जाता था. एमवी राघवन ने अपने सिद्धांतो तथा विचारो से कभी समझौता नहीं किया. वैचारिक मतभेद के बाद उन्होंने सीपीएम को उस समय छोड़ा जब केरल में पार्टी में उनकी तूती बोलती थी. वरिष्ठ कम्युनिस्ट नेता और पूर्व मंत्री एमवी राघवन का केरल के कन्नूर जिले में निधन हो गया. यह जानकारी उनके परिवार ने दी है. उनका अंतिम संस्कार सोमवार को होगा, जिसकी तैयारियां की जा रही हैं.

81 वर्षीय राघवन बहुत अच्छे वक्ता थे. गठबंधन बनाने को लेकर पार्टी से मतभेद के कारण उन्हें मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी से 1985 में बाहर निकाल दिया गया था. राघवन ने अगले ही वर्ष नई पार्टी कम्युनिस्ट मार्क्‍सवादी पार्टी गठित की और तभी से उनकी पार्टी कांग्रेसनीत संयुक्त लोकतांत्रिक मोर्चा की घटक है.


राघवन यद्यपि सात बार विधानसभा सदस्य रहे थे, लेकिन वह मंत्री सिर्फ दो बार 1991 से 1996 और 2001 से 2006 ही बन पाए.

वह एक विधानसभा क्षेत्र से मात्र एक बार ही चुनाव लड़ते थे.

राघवन को हालांकि 1996, 2006 और 2011 के विधानसभा चुनावों में हार का सामना भी करना पड़ था. उसके बाद वह उम्र संबंधी बीमारियों से ग्रसित हो गए. राघवन 16 साल की उम्र में कम्युनिस्ट बन गए थे और उन्होंने केरल के महान कम्युनिस्ट नेता एके गोपालन के साथ काम किया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!