चर्च पर हमला क्यों नहीं करते माओवादी

रायपुर | संवाददाता: संघ ने पूछा कि छत्तीसगढ़ में माओवादी, चर्चों पर हमला क्यों नहीं करते. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वरिष्ठ प्रचारक इंद्रेश कुमार ने कहा कि जिस तरीक़े से माओवादियों के पास विदेशी हथियार मिल रहे हैं, उससे संदेह होता है कि माओवादियों को विदेशी फंडिंग तो नहीं हो रही.

वे आज छत्तीसगढ़ के बस्तर में माओवादियों की समस्या और समाधान विषय पर व्याख्यान देने पहुंचे थे.


संघ नेता इंद्रेश कुमार ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि मेरी अभी तक जिज्ञासा बनी हुई है कि आखिर इन क्षेत्रों में बसे ईसाइयों और यहां बने चर्चों पर नक्सलियों का हमला क्यों नहीं होता? उनके पास विदेशी हथियार कहां से आते हैं? उन्हें अपने काम को आगे बढ़ाते रहने के लिए पैसा कहां से मिलता है?

इंद्रेश कुमार ने कहा कि माओवादियों को भी रचनात्मक तरीके से सामने आना चाहिये. हिंसा किसी भी समस्या का समाधान नहीं हो सकता. शांति और भाईचारा से ही क्षेत्र का विकास हो सकता है.

संघ नेता ने कहा कि किसी भी मूवमेंट की उपलब्धियां उस क्षेत्र के शिक्षा के स्तर, रोजगार की व्यवस्था और वहां होने वाले विकास से मिलती है. लेकिन नक्सली कैसा मूवमेंट चला रहे हैं, जिससे शिक्षा, रोजगार और विकास तीनों बाधित हो रहे हैं.

One thought on “चर्च पर हमला क्यों नहीं करते माओवादी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!