शिवराज ने मांगा 5723 करोड़ का पैकेज

भोपाल | एजेंसी: मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से मुलाकात कर ओलावृष्टि से फसलों को हुए नुकसान की भरपाई के लिए विशेष पैकेज की मांग की है. उन्होंने प्रधानमंत्री से किसानों के हितों के संरक्षण और फसलों को हुए नुकसान की भरपाई के लिए 5,723 करोड़ रुपये का विशेष पैकेज मंजूर करने की मांग की.

भाजपा के प्रदेश कार्यालय की ओर से जारी विज्ञप्ति में बताया गया है कि शिवराज ने गुरुवार को लोकसभा में विपक्ष की नेता सुषमा स्वराज और भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष नरेन्द्र सिंह तोमर के साथ प्रधानमंत्री से नई दिल्ली में मुलाकात की.

उन्होंने प्रधानमंत्री से कहा कि प्रारंभिक आकलन के अनुसार प्रदेश भर में अभी तक 13 हजार करोड़ रुपये से अधिक की क्षति किसानों को हुई है. इसमें किसानों को फसल के नुकसान के साथ जान-माल एवं पशु की भी हानि हुई है. इसके लिए राज्य सरकार के कोष से तत्काल राहत राशि उपलब्ध कराई जा रही है. विकास परियोजनाओं को रोककर किसानों के लिए राहत राशि उपलब्ध कराई गई है. प्रदेश में ओला वृष्टि और अति वृष्टि से अत्यधिक हानि हुई है और लगभग तीन चौथाई भाग इससे प्रभावित हुआ है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा अपने मद से दो हजार करोड़ रुपये तक की राहत राशि किसानों को उपलब्ध कराने के प्रयास किए जा रहे हैं, लेकिन किसानों को इससे अधिक की क्षति हुई है.

उन्होंने केन्द्र सरकार से फौरन कदम उठाने और 5,723 करोड़ रुपये का राहत पैकेज उपलब्ध कराने की मांग की. मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री को बताया कि राज्य स्तर के बैंकों और क्षेत्रीय बैंकों को राज्य सरकार द्वारा ऋण वसूली रोकने के निर्देश दिए गए हैं. साथ ही ऋण पर ब्याज माफ करने या ब्याज की राशि उपलब्ध कराने के भी प्रयास किए जा रहे हैं.

उन्होंने प्रधानमंत्री से निवेदन किया कि वह राष्ट्रीयकृत बैंकों को ऐसा निर्देश दें कि ऋण की वसूली रोकी जाए और ऋण पर ब्याज या तो माफ किया जाए या केन्द्र सरकार उसकी भरपाई करे. इस पर प्रधानमंत्री ने आश्वासन दिया कि सभी विषयों पर गौर किया जाएगा और जल्द से जल्द किसानों को राहत राशि उपलब्ध कराई जाएगी.

शिवराज ने केंद्रीय कृषि मंत्री शरद पवार से भी मुलाकात की और फसलों को हुए नुकसान के लिए तुरन्त मुआवजा राशि उपलब्ध कराने एवं किसानों की शेष बची फसलों को समर्थन मूल्य पर खरीदने के निर्देश देने की मांग से संबंधित पत्र सौंपा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *