‘Love Jihad’ के लपेटे में करीना कपूर

मुंबई | समाचार डेस्क: विश्व हिन्दू परिषद के ताजा गतिविधियों ने बालीवुड की हसीना करीना कपूर को ‘लव जिहाद’ के लपेटे में ले लिया है. विश्व हिन्दू परिषद की महिला ईकाई दुर्गा वाहिनी द्वारा संचालित पत्रिका ‘हिमालय ध्वनि’ के ताजा अंक में ‘लव जिहाद’ के खिलाफ ‘घर वापसी’ के कार्यक्रम का उल्लेख किया गया है तथा आश्चर्यजनक रूप से इस पत्रिका के कवर पेज पर करीना कपूर का फोटो छापा गया है. करीना के फोटो में छेड़छाड़ कर उसके एक तरफ बुर्का बना दिया गया है. जाहिर है कि करीना के फोटो के माध्यम से ‘लव जिहाद’ के खिलाफ दुर्गा वाहिनी के अभियान की सांकेतिक तौर पर घोषणा की गई है.

उल्लेखनीय है साल 2012 में करीना कपूर ने शर्मिला के बेटे सैफ अली खान के साथ निकाह कर लिया था. वहीं, सैफ अली खान ने हिन्दुस्तान टाइम्स के हवाले से कहा है, “ये हास्यास्पद है और इस पर मुझे कोई आश्चर्य नहीं हुआ. लेकिन इस तरह के विचार भारत के लिए नुकसानदायक हैं.”

गौरतलब है कि पिछले कुछ दिनों से विश्व हिन्दू परिषद ‘लव जिहाद’ के नाम पर धर्मांतरण के विशाल कार्यक्रम आयोजित करवा रहा है. जिसका राजनीतिक स्तर पर विरोध किया जा रहा है. गौर करने वाली बात है कि इसी ‘हिमालय ध्वनि’ पत्रिका के संपादकीय में छपा है, “आजकल लव जेहाद और धर्मांतरण पर काफी बहस हो रही है. देश का बंटवारा और पाकिस्तान का जन्म इसी धर्मांतरण के कारण हुआ था. अगर लड़की लव जेहाद में फंस जाए और धर्म बदल ले लेकिन जब वह दोबारा अपने धर्म में वापस आना चाहे तो क्या ये गलत है?”

करीना कपूर को लपेटे में ले लेने से ‘बालीवुड’ तक ‘लव जिहाद’ की आंच पहुंच गई है. करीना का फोटो ‘हिमालय ध्वनि’ पत्रिका के कव्हर पेज पर मोर्फ करके छापने की बात पर दुर्गा वाहिनी के संयोजक रजनी ठुकराल ने कहा, ” युवा लोग वही करते हैं जो सेलिब्रिटिज़ करते हैं. वह सोचते हैं कि जब ये लोग कर रहे हैं तो हमें भी करना चाहिए.”

लव जिहाद-
मुसलिम लड़कों द्वारा कथित तौर पर अन्य धर्म की लड़कियों को प्यार के जाल में फंसाकर उनका धर्म-परिवर्तन करना लव जिहाद या रोमियो जिहाद कहा गया है. उल्लेखनीय है कि जुलाई में मेरठ में एक हिन्दू युवती और मुस्लिम युवक के प्रेम विवाह को भाजपा, विश्व हिन्दू परिषद और बजरंग दल ने लव-जिहाद का मुद्दा बना दिया. बाद में इस मामले के कई नए पक्ष और बदले हुए बयान सामने आए.

‘घर वापसी’-
कथित तौर पर दूसरे धर्म को अपना लेने वाले हिन्दुओं को वापस हिन्दू बनाना को ‘घर वापसी’ के कार्यक्रम का नाम दिया गया है. हिन्दूवादी संगठनों पर यह आरोप लगते रहें हैं कि वे ‘घर वापसी’ के नाम पर धर्मांतरण करवा रहें हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *