वेब कैमरे रखेंगे पोलिंग बूथों पर नज़र

रायपुर | एजेंसी: नक्सल क्षेत्रों और अतिसंवेदनशील मतदान केंद्रों में निष्पक्ष व शांतिपूर्ण चुनाव आयोग के लिए बड़ी चुनौती है. इसके लिए निर्वाचन आयोग बूथों पर नजर रखने के लिए लाइव वेब कॉस्टिंग करवा रहा है. आयोग राज्य के 11 संसदीय क्षेत्रों के 450 अति संवेदनशील बूथों में वेब कैमरे लगाएगा.

एक निर्वाचन अधिकारी ने जानकारी दी है कि कैमरे सीधे इंटरनेट से जोड़े जाएंगे, इसकी मॉनिटरिंग दिल्ली और रायपुर से की जाएगी. इसके इंटरनेट लिंक जारी किए जाएंगे, जिससे आयोग के अधिकारियों के आलावा आम आदमी भी इंटरनेट की मदद से लाइव वोटिंग देख सकेगा. इंटरनेट की कनेक्टिविटी बनाई जाएगी.

उन्होंने बताया कि बिलासपुर के बूथ तय करने के लिए नगर निगम कमिश्नर सौरभ कुमार को नोडल अफसर बनाया गया है. इसे रिकॉर्ड भी किया जाएगा. गड़बड़ी होने पर कारणों की जांच में मदद मिलेगी.

गौरतलब है कि विधानसभा चुनाव में 40 बूथों के लिए आयोग ने यह व्यवस्था मॉनिटरिंग के लिए की थी. बस्तर के 24, बीजापुर के चार, बिलासपुर के चार और धमतरी के आठ बूथों सहित कुल 40 अति संवेदनशील बूथों में लाइव वेब कॉस्टिंग की गई थी. इसका अच्छा रिस्पांस मिलने से 450 बूथों की लिस्टिंग की जा रही है.

प्रदेश में तीन दौर का मतदान 10 अप्रैल से शुरू होने जा रहा है. नक्सल प्रभावित इलाकों में सुबह से दोपहर तक ही वोट पड़ते हैं. बाकी इलाकों में वोटिंग शाम तक होगी. ऐसे बूथों में कड़े सुरक्षा इंतजाम करने के अलावा कैमरे से भी नजर रखी जाएगी. डिप्टी चीफ इलेक्टोरल ऑफिसर ने सभी संसदीय क्षेत्रों के रिटर्निग ऑफिसरों को ऐसे बूथ तय करने के लिए कहा है जो सर्वाधिक संवेदनशील हैं.

इसके साथ ही इन केंद्रों की लिस्टिंग के साथ ही एनआईसी की मदद से लाइव वेब कॉस्टिंग की तैयारी शुरू कर दी गई है. बस्तर में चुनाव 10 अप्रैल को है, इसलिए वहां ये इंतजाम पहले कर लिए जाएंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *