कृषि विधेयक के ख़िलाफ़ मोदी की मंत्री का इस्तीफ़ा

नई दिल्ली | संवाददाता: शिरोमणि अकाली दल की नेता और केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने कृषि विधेयक के ख़िलाफ़ केंद्रीय मंत्री पद से इस्तीफ़ा दे दिया है. इस्तीफे के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक के बाद एक कई ट्वीट करते हुये कहा कि किसानों के मुद्दे पर लोगों को भ्रमित किया जा रहा है.

इससे पहले हरसिमरत कौर बादल ने एक ट्वीट में कहा-मैंने केंद्रीय मंत्री पद से किसान विरोधी अध्यादेशों और बिल के ख़िलाफ़ इस्तीफ़ा दे दिया है. किसानों की बेटी और बहन के रूप में उनके साथ खड़े होने पर गर्व है.


उन्होंने पत्रकारों से इस्तीफे का उल्लेख करते हुये कहा कि हज़ारों किसान सड़क पर हैं. मैं ऐसी सरकार का हिस्सा नहीं बनना चाहती जिसने सदन में बिना किसानों की चिंताओं के बारे में बात किए बिल पास कर दिया. यही वजह है कि मैंने इस्तीफ़ा दिया.


हरसिमरत कौर बादल ने प्रधानमंत्री को सौंपे अपने इस्तीफ़े में लिखा है कि कृषि उत्पाद की मार्केटिंग के मुद्दे पर किसानों की आशंकाओं को दूर किए बिना भारत सरकार ने बिल को लेकर आगे बढ़ने का फ़ैसला लिया है. शिरोमणि अकाली दल किसी भी ऐसे मुद्दे का हिस्सा नहीं हो सकती है जो किसानों के हितों के ख़िलाफ़ जाए. इसलिए केंद्रीय मंत्री के तौर पर अपनी सेवा जारी रखना मेरे लिए असभंव है.

इस इस्तीफे के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक के बाद एक कई ट्वीट कर कहा कि किसानों के मुद्दे पर लोगों को भ्रमित किया जा रहा है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट किया, ”लोकसभा में ऐतिहासिक कृषि सुधार विधेयकों का पारित होना देश के किसानों और कृषि क्षेत्र के लिए एक महत्वपूर्ण क्षण है. ये विधेयक सही मायने में किसानों को बिचौलियों और तमाम अवरोधों से मुक्त करेंगे.”


दूसरे ट्वीट में उन्होंने लिखा-”इस कृषि सुधार से किसानों को अपनी उपज बेचने के लिए नए-नए अवसर मिलेंगे, जिससे उनका मुनाफा बढ़ेगा. इससे हमारे कृषि क्षेत्र को जहां आधुनिक टेक्नोलॉजी का लाभ मिलेगा, वहीं अन्नदाता सशक्त होंगे.”

उन्होंने एक ट्वीट में लिखा-”किसानों को भ्रमित करने में बहुत सारी शक्तियां लगी हुई हैं. मैं अपने किसान भाइयों और बहनों को आश्वस्त करता हूं कि MSP और सरकारी खरीद की व्यवस्था बनी रहेगी. ये विधेयक वास्तव में किसानों को कई और विकल्प प्रदान कर उन्हें सही मायने में सशक्त करने वाले हैं.”

नरेंद्र मोदी ने एक और ट्वीट किया-”किसानों और कृषि क्षेत्र से जुड़े सभी लोगों से मेरा अनुरोध है कि वे लोकसभा में कृषि सुधार विधेयकों पर चर्चा के दौरान कृषि मंत्री जी द्वारा दिए गए भाषण को जरूर सुनें.”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!