अंतागढ़ उपचुनाव: HC में याचिका दायर

बिलासपुर | संवाददाता: अंतागढ़ चुनाव पर SIT गठित करने की मांग कांग्रेस ने की है. इस संबंध में छत्तीसगढ़ पीसीसी के अध्यक्ष भूपेश बघेल ने छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट में याचिका दायर की है. याचिका में उच्च स्तरीय जांच के लिये कांग्रेस ने एसआईटी गठित करने की मांग की है. आरोप है कि मुख्यमंत्री रमन सिंह, उनके दामाद पुनीत गुप्ता, पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी, विधायक अमित जोगी और मंतूराम पवार ने घूस देकर चुनाव को प्रभावित किया था.

गौरतलब है कि 13 सितंबर 2014 को बस्तर के अंतागढ़ विधानसभा सीट के लिए उपचुनाव हुआ था, जिसमें कुल 13 उम्मीदवार मैदान में थे. लेकिन चुनाव से ऐन पहले कांग्रेस उम्मीदवार मंतूराम पवार ने अपना नामांकन वापस ले लिया था. हालत ये हुए थे कि नामांकन वापसी के अंतिम दिन भाजपा ने निर्विरोध चुनाव जीतने के लिए कोशिशें शुरू की और एक-एक कर 10 उम्मीदवार चुनाव मैदान से हट गए थे. इस सीट पर भाजपा के भोजराज नाग ने जीत हासिल की थी. भोजराज नाग को करीब 51 हजार मतों के अंतर से जीत मिली थी.


उल्लेखनीय है कि है कि मंतूराम पवार कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रहें हैं. वे विधायक भी रह चुके हैं. वर्ष 2014 में संपन्न हुए अंतागढ़ विधानसभा उप चुनाव के दौरान कांग्रेस के उम्मीदवार भी थे. लेकिन ऐन मतदान के दो दिन पहले अचानक नाम वापस लिए जाने पर प्रदेशभर में खलबली मच गई. उपचुनाव में भाजपा के उम्मीदवार को एकतरफा जीत मिली. इसके बाद मार्च 2015 में मंतूराम पवार ने भाजपा का दामन थाम लिया था.

इसके बाद जनवरी 2016 में एक टेप के हवाले से इंडियन एक्सप्रेस ने खबर छापी कि इस उपचुनाव में कांग्रेस के उम्मीदवार को मैदान से हटाने को लेकर करोड़ों रुपये का लेन-देन हुआ है. इस कथित लेनदेन के टेप में राज्य के मुख्यमंत्री रमन सिंह के परिजनों और पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी, उनके बेटे अमित जोगी समेत कुछ स्थानीय नेताओं के बीच बातचीत का आरोप है. इस खबर के बाद चुनाव आयोग ने राज्य के मुख्यसचिव को जांच कर एक सप्ताह में रिपोर्ट मांगी थी.

संबंधित खबरें-

अंतागढ़ में भाजपा उम्मीदवार विजयी

छत्तीसगढ़: मंतूराम भाजपा में शामिल

छग टेपकांड: चुनाव आयोग ने मांगे टेप

छत्तीसगढ़ टेप कांड जांच पर सवाल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!