भारत-इजराइल के बीच रक्षा-व्यापार समेत 9 समझौतों पर हस्ताक्षर

नई दिल्ली। डेस्क: भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और इजराइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के नेतृत्व में यहां हुई प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता बाद साइबर सुरक्षा, तेल व गैस क्षेत्र समेत नौ समझौतों पर हस्तक्षार किए. साइबर सुरक्षा में सहयोग के लिए एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए. दूसरा समझौता ज्ञापन तेल एवं गैस क्षेत्र में भारत के पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय और इजरायल के ऊर्जा मंत्रालय के बीच हुआ.

हवाई परिवहन समझौते में संशोधन पर भारत और इजरायल के बीच एक प्रोटोकॉल पर भी हस्ताक्षर किए गए. भारत और इजरायल के बीच संयुक्त रूप से फिल्म निर्माण पर भी एक समझौता हुआ.


होम्योपैथिक दवाओं में अनुसंधान के क्षेत्र में सहयोग से संबंधित एक तीसरे समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर आयुष मंत्रालय के केंद्रीय होम्योपैथी अनुसंधान परिषद और इजरायल के शारे जेडक मेडिकल सेंटर के सेंटर फॉर इंटीग्रेटेड कंप्लीमेंटरी मेडिसिन के बीच हुआ.

अंतरिक्ष क्षेत्र में सहयोग के लिए भारतीय अंतरिक्ष विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईएसटी) और टेक्नियन-इजरायल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के बीच समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए. भारत में निवेश और इजरायल में निवेश पर एक आशय ज्ञापन पर भी हस्ताक्षर हुआ. इंडियन ऑयल और इजराइल के फिनर्जी लिमिटेड ने धातु-हवा बैटरी के क्षेत्र में सहयोग के लिए एक आशय-पत्र पर हस्ताक्षर किए.

इंडियन ऑयल और इजरायल के येदा रिसर्च एंड डेवलपमेंट कंपनी लिमिटेड के बीच एक अन्य आशय पत्र पर हस्ताक्षर सकेंद्रित सौर तापीय प्रौद्योगिकी में सहयोग के लिए किए गए. इससे पहले सोमवार को इजरायली प्रधानमंत्री का यहां राष्ट्रपति भवन में रस्मी स्वागत किया गया. 130 सदस्यीय व्यापारिक प्रतिनिधिमंडल के साथ नेतन्याहू अपने छह दिवसीय भारत दौरे पर रविवार को पहुंचे. इस दौरान वह आगरा, अहमदाबाद और मुंबई जाएंगे. किसी इजरायली प्रधानमंत्री का भारत दौरा 15 सालों बाद हो रहा है. इससे पहले 2003 में एरियल शेरॉन भारत दौरे पर आए थे.

अमेरिका, भारत और इजरायल के बीच उन्नत परियोजनाओं व उद्यमी संकल्पनाओं के लिए त्रिपक्षीय व्यापार के अवसर को बढ़ावा देने के मकसद से इजरायल और भारतीय प्रौद्योगिकी कंपनियों के समूह ने सोमवार को पांच करोड़ अमेरिकी डॉलर का एक त्रिपक्षीय कोष का गठन किया.

नैसकॉम और इंडियासपोरा की ओर से आयोजित टेक ट्रैंगल समिट में इजरायल-भारत प्रौद्योगिकी समूह के सदस्य डेनिस मेहता ने कहा, ‘हम त्रिपक्षीय निवेश साझेदारी के लिए एक मंच की शुरुआत कर रहे हैं, जिसके जरिये प्रमुख रूप से त्रिपक्षीय अवससरों की जरूरतों व आकांक्षाओं को पूरा किया जाएगा।’ उन्होंने कहा, ‘हमारे मॉडल में इजरायल प्रौद्योगिकी आपूर्तिकर्ता के रूप में है और भारत अवसरों का एक बड़ा बाजार है. वहीं अमेरिका इस समीकरण में पूंजीदाता की भूमिका में है।’

इस मौके पर नैसकॉम ने इजरायल की स्टार्टअप कंपनियों को प्रोत्साहन देने वाले संगठन मास चैलेंज और देशपांडे फाउंडेशन के साथ एक अनुबंध पर हस्ताक्षर किए, जिसके तहत 10 भारतीय स्टार्टअप की मदद के लिए प्रत्येक को 5,000 डॉलर की स्कॉलरशिप दी जाएगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!