क्या Good Morning ले रहा है आपके फोन की जान?

नई दिल्ली| संवाददाता: भारत के हर तीन में से एक स्मार्टफोन उपयोगकर्ता का फोन ‘आउट ऑफ स्पेस’ क्यों हो रहा है ? इस सवाल के जवाब ने सिलिकॉन वैली में बैठे गूगल के लोगों को अपना बाल नोचने पर मजबूर कर दिया है.

असल में भारत में नये-नये ऑनलाइन हुये स्मार्टफोन पर लोगों के दो शब्द इसके लिये जिम्मेवार है. और ये दो शब्द हैं- Good Morning. गूगल ने भारतीय फोन को लेकर जो शोध किया, उसके अनुसार उगते हुये सूरज, फूल, पक्षी, होंठ, जोड़े हुये दो हाथ जैसी तस्वीरों के साथ हर दिन ऐसे बेशुमार संदेश लोगों के फोन पर आ-जा रहे हैं. हर तीन में से एक भारतीय स्मार्टफोन के भर जाने संबंधी शोध वेस्टर्न डिजीटल कॉर्पोरेशन का है, जिसका कहना है कि अमरीका में 10 में से 1 फोन के साथ ऐसा है लेकिन भारत में हर तीसरा स्मार्टफोनधारी परेशान है, मेमोरी खत्म होने की कमी से जूझ रहा है या उनका फोन हैंग हो रहा है.


गूगल की मानें तो लाखों भारतीय पहली बार ऑनलाइन हो रहे हैं और वे इंटरनेट स्पेस को पूरे उत्साह के साथ भर रहे हैं. उनके लिये अपने फोन से बधाई भेजकर दिन की शुरुआत के मुकाबले कुछ भी बेहतर नहीं है. सूर्योदय से पहले शुरू होकर देर रात कर ऐसी तस्वीरों के साथ मित्रों, परिवार और अजनबियों को लोग संदेश पोस्ट कर रहे हैं. पिछले पांच वर्षों में ‘Good Morning इमेजेस’ के लिए गूगल में तस्वीर खोजने वालों की संख्या में 10 गुणा वृद्धि हुई है.

पिनरेस्ट ने तो इस तरह की तस्वीरों के लिये एक अलग अनुभाग ही शुरु कर दिया. यही कारण है कि भारत में ऐसे चित्रों को डाउनलोड करने वाले लोगों की संख्या, पिछले वर्ष की तुलना में नौ गुना बढ़ी है.

भारत में 200 मिलियन मासिक सक्रिय उपयोगकर्ता वाले व्हाट्सएप मेसेजिंग सर्विस ने तो पिछले साल एक स्टेटस मैसेज जोड़ा, ताकि उपयोगकर्ता एक बार में ही अपने सभी संपर्कों को Good Morning कह सकें. वॉल स्ट्रीट जनरल के अनुसार शायद भारत के सबसे प्रसिद्ध Good Morning संदेश भेजने वाले उत्साही प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी हैं, जिन्होंने अपने बधाई का जवाब देने के लिए सांसदों के एक समूह को सलाह दी.

गूगल इस तरह के शुभकामना संदेशों से बचाने के लिये एक ऐप लाया है-फाइल्स गो. यह ऐप इस तरह के शुभकामना संदेशों को एक बार में ही डिलीट कर देता है. गूगल का दावा है कि दिसंबर में लांच किये गये इस ऐप को एक करोड़ से अधिक लोगों ने डाउनलोड किया है और तब से औसतन प्रति उपभोक्ता ने एक जीबी से अधिक Good Morning छाप संदेशों और तस्वीरों का डेटा डिलीट किया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!