क्या फर्जीवाड़ा करके जीती थी छत्तीसगढ़ में भाजपा

रायपुर | संवाददाता: क्या भाजपा ने छत्तीसगढ़ में पिछला चुनाव फर्जीवाड़ा कर के जीता था? देश भर में चुनावी आंकड़ों को एकत्र करने वाली पोर्टल द पॉलिटिक्स के आंकड़ों के बाद कांग्रेस पार्टी ने ये गंभीर आरोप लगाये हैं.

द पॉलिटिक्स के आंकड़ों की मानें तो पिछले विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी 97 हज़ार वोटों से जीती थी. वहीं इस दौरान 2 लाख से अधिक ऐसे वोटर थे, जो डुप्लीकेट थे.


द पॉलिटिक्स के सीईओ विकास जैन ने आज एक प्रेस कांफ्रेस में दावा किया कि वर्ष 2003-04 और 2008-09 के लोकसभा चुनाव में 2 लाख मतदाता बढ़े, लेकिन 2013-14 के विधानसभा चुनाव में यानी कि 6 माह के दौरान वोटरों की संख्या में 8 लाख की बढ़ोतरी हो गई. चौंकाने वाली बात यह है कि कांग्रेस 2013 के चुनाव में भाजपा से महज 97 हजार वोटों से ही पीछे थी.

जैन ने कहा कि छत्तीसगढ़ में 1.80 करोड़ मतदाता हैं. हर साल इनमें एक से डेढ़ लाख की संख्या में बढ़ोतरी हो रही है.

जैन का दावा है कि जब मतदाता सूची की जांच की गई तो पता चला कि वर्तमान में 1.81 करोड़ मतदाता हैं. इनमें से 91.46 लाख पुरुष और 90.32 लाख महिला वोटर हैं. उन्होंने दावा किया कि इनमें से 2,12,424 मतदाता डुप्लीकेट हैं.

उन्होंने कहा कि कई घर ऐसे भी हैं, जहां 10 से भी ज्यादा मतदाता हैं. उन घरों का नियमानुसार बीएलओ के माध्यम से सर्वे कराया जाना चाहिए, लेकिन सरकार ने ऐसा नहीं किया. उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ के 1,39,175 घरों में 10 से ज्यादा मतदाता हैं.

114 घरों में 17083 मतदाता

जैन ने फर्जीवाड़ा को लेकर अपने दावे के पक्ष में सबूत भी रखे. इन दस्तावेज़ों के अनुसार मतदाता सूची में 949 नाम ऐसे हैं जो एक ही विधानसभा में 50 से ज्यादा बार आए. इसी तरह मतदाता सूची में 3070 नाम ऐसे जो एक ही विधानसभा में 25 से ज्यादा बार आए.

उन्होंने कहा कि मतदाता सूची में 7295 नाम ऐसे जो एक ही विधानसभा में 10 से ज्यादा बार आए. इसके अलावा प्रदेश में 1619 मतदाता ऐसे हैं जिनकी वोटर आईडी में ईपिप नंबर एक है. उन्होंने दावा किया कि प्रदेश में एक ही पते पर 100 से ज्यादा मतदाता हैं. इसके अनुसार, 114 घरों में 17083 मतदाता हैं. वहीं 50 से ज्यादा मतदाता 577 घरों में, 25 से ज्यादा मतदाता 3424 घरों में हैं.

प्रेस कांफ्रेस में छत्तीसगढ़ में कांग्रेस पार्टी के प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल ने आरोप लगाया कि भाजपा बड़ा षड्यंत्र कर रही है. स्टेट इलेक्शन कमीशन को कलेक्टरों को लिखना पड़ता है कि हमारा फोन उठा लिया करो. क्या स्थिति है प्रदेश में? कुछ कलेक्टर भाजपा के लिए काम कर रहे हैं.

उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग से हमने जांच की मांग की है. भूपेश बघेल ने कहा कि मतदाता सूची के अंतिम प्रकाशन के पहले सूची दुरुस्त किया जानी चाहिए. बघेल ने कहा कि संवैधानिक संस्थाओं पर उन्हें पूरा भरोसा है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!